रविवार, 29 अप्रैल 2012


अल्प ऊर्जा, अधिक प्रकाश - सीएफएल


सामान्यतौर पर भारत में उपयोग में लाये जा रहे लैंप, बल्ब एवं अन्य उपकरणों द्वारा अधिक ऊर्जा खपत करने के कारण, आज लगभग 80 प्रतिशत बिजली बेकार चली जाती है।
कॉम्पैक्ट फ्लूरेसेन्ट लाइट (सीएफएल) बल्ब का उपयोग कर हम बिजली की लागत में बचत कर सकते हैं। सीएफएल बल्ब परंपरागत बल्ब की तुलना में पाँच गुणा अधिक प्रकाश देता है।
साथ ही, सीएफएल बल्ब के टिकाऊ होने की अवधि सामान्य बल्ब से आठ गुणा अधिक है।
फ्लूरेसेन्ट ट्यूब लाइट व कॉम्पैक्ट फ्लूरेसेन्ट लाइट जलने में कम ऊर्जा ग्रहण करती है और ज्यादा गर्मी भी नहीं देती। यदि हम 60 वाट के साधारण बल्ब के स्थान पर, 15 वाट का कॉम्पैक्ट फ्लूरेसेन्ट लाइट बल्ब का उपयोग करते हैं तो हम प्रति घंटा 45 वाट ऊर्जा की बचत कर सकते हैं। इस प्रकार, हम प्रति माह 11 यूनिट बिजली की बचत कर सकते हैं और बिजली पर आने वाले अपने खर्च को कम कर सकते हैं।
इस प्रकार, ऊर्जा संरक्षण कर एवं बिजली खपत में बचत कर, हम उन गाँवों तक बिजली पहुँचाने में मदद कर सकते हैं जहाँ आज तक बिजली नहीं पहुँची है।
विवरण
60 वाट का बल्ब
15 वाट का सीएफएल बल्ब
बचत
बल्ब की कीमत
10 रुपये
116 रुपये
-
वाट
60 रुपये
15 रुपये
45 रुपये
टिकाऊ रहने की अवधि
6 माह, 1 हजार घंटा
4 वर्ष, 8 हजार घंटा

प्रति वर्ष बिजली खपत
115 यूनिट
36 यूनिट
79 यूनिट
प्रति वर्ष कीमत 2.75 रुपये प्रति यूनिट की दर से
316.25 रुपये
99 रुपये
217.25
चार वर्ष का कुल लागत
1265 रुपये
396 रुपये
869 रुपये

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें